हाइपरसोम्निया: एक ऐसी बीमारी जिसमें 15 घंटे सोने के बाद भी महसूस होती है थकावट

सिर्फ कम सोना ही एक बीमारी नहीं है बल्कि जरूरत से ज्‍यादा नींद लेना भी आपके स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव डालता है, हाइपर्सोमनिया एक अन्य नींद विकार है जो आमतौर पर ड्रग या एल्कोहल के दुरुपयोग के कारण हो सकता है। इसके अन्‍य कई कारण होते हैं जिनके बारे में आज हम यहां जानेगें।

क्‍या है हाइपरसोम्निया?

हाइपरसोमनिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें आप दिन में अत्यधिक नींद महसूस करते हैं। आप अपने समय पर पूरी नींद लेते हैं फिर आपकी थकान दूर नहीं होती है। हाइपर्सोमनिया से पीड़ित लोगों को दिन के दौरान काम करने में कठिनाई होती है क्योंकि वे अक्सर थक जाते हैं, जो एकाग्रता और ऊर्जा स्तर को भी प्रभावित कर सकता है।

हाइपरसोम्निया के प्रकार:

हाइपरसोम्निया के प्रकार:

सामान्‍य तौर पर हाइपरसोमनिया दो प्रकार का होता है प्राथमिक या माध्यमिक।

  • प्राथमिक हाइपरसोमनिया का एकमात्र लक्षण दिखाई देता है अत्यधिक थकान।
  • माध्यमिक हाइपरसोमनिया के कई लक्षण होते हैं जैसे स्लीप एपनिया, पार्किंसंस रोग, गुर्दे की विफलता और क्रोनिक थकान सिंड्रोम शामिल हो सकते हैं। ये स्थितियां रात में खराब नींद का कारण बनती हैं, जिससे आप दिन में थकान महसूस करते हैं।

हाइपर्सोमनिया के लक्षण?

हाइपरसोमनिया का मुख्य लक्षण निरंतर थकान है। हाइपर्सोमनिया से पीड़ित लोग कभी-कभी उनींदापन से राहत के बिना पूरे दिन झपकी ले सकते हैं। उन्हें लंबे समय तक सोने से जागने में भी कठिनाई होती है।

हाइपरसोमनिया के अन्य कई लक्षण शामिल हैं:

  • कम ऊर्जा
  • चिड़चिड़ापन
  • चिंता
  • भूख में कमी
  • धीमी सोच
  • याद करने में कठिनाई
  • बेचैनी

हाइपरसोमनिया के कारण

हाइपरसोम्निया: एक ऐसी बीमारी जिसमें 15 घंटे सोने के बाद भी महसूस होती है थकावट

प्राथमिक हाइपरसोमनिया को मस्तिष्क प्रणालियों में समस्याओं के कारण माना जाता है जो नींद और जागने के कार्यों को नियंत्रित करते हैं।

माध्यमिक हाइपरसोमनिया उन स्थितियों का परिणाम है जो थकान या अपर्याप्त नींद का कारण बनती हैं। उदाहरण के लिए, स्लीप एपनिया हाइपर्सोमनिया का कारण बन सकता है क्योंकि यह रात में सांस लेने में परेशानी पैदा कर सकता है, जिससे लोग रात भर में कई बार जाग सकते हैं।

कुछ दवाएं हाइपर्सोमनिया का कारण भी बन सकती हैं। लगातार दवा और अल्कोहल के उपयोग से दिन के दौरान नींद आ सकती है।

निरंतर ध्रूमपान का उपयोग भी हाइपर्सोमनिया का कारण बन सकती है।

हाइपरसोमनिया के लिए उपचार के विकल्प क्या हैं?

इसके उपचार अलग-अलग हो सकते हैं, जो आपके हाइपरसोमनिया के कारण पर निर्भर करता है।

  • कई दवाएं हाइपरसोमनिया का इलाज कर सकती हैं। इनमें एम्फ़ैटेमिन, मिथाइलफेनिडेट और मोडाफिनिल शामिल हैं। ये दवाएं उत्तेजक हैं जो आपको अधिक जागृत महसूस करने में मदद करती हैं।
  • जीवनशैली में बदलाव उपचार प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। एक डॉक्टर नियमित रूप से सोने के समय पर होने की सलाह दे सकता है। कुछ गतिविधियों से बचना भी लक्षणों में सुधार कर सकता है, विशेष रूप से सोते समय के आसपास। हाइपरसोमनिया वाले अधिकांश लोग शराब नहीं पीते हैं या ड्रग्स का उपयोग नहीं करते हैं। एक डॉक्टर भी स्वाभाविक रूप से ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने के लिए उच्च पोषण आहार की सिफारिश कर सकता है।
  • आप शांतिपूर्ण नींद का वातावरण बनाकर और शराब से बचकर हाइपर्सोमनिया के खतरे को कम कर सकते हैं। इसके अलावा दवाओं से बचें जो नींद और डिप्रेशन का कारण बनती हैं।

यह भी जरूर पढ़े- स्वस्थ रहने के लिए जरूर पढ़े रेड वाइन के यह अदभुद स्वास्थ्य लाभ

blank
Pushpendra Raghuwanshi
I'm an enthusiastic content maker, writer, and blogger. according to me, writing is mind art. and I am addicted to this art. I know I'm not perfect but I always try to learn.

Related Articles

त्‍वचा और बालों की कई समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकते हैं पान के पत्‍ते, जानिए उपयोग करने के तरीके-

आज तक आपने पान के पत्‍तों का उपयोग सिर्फ खाने के लिए ही सुना होगा लेकिन हकीकत कुछ है।  पारंपरिक रूप से विभिन्न अवसरों...

क्यों जरूरी है सेक्स एजुकेशन ? यहां जाने सेक्स एजुकेशन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

भारत में लगभग हर घर में राजनीति, सिनेमा, पढ़ाई लिखाई और करियर के मुद्दों पर बात होती है लेकिन अगर घर में कोई बच्‍चा...

माइग्रेन के दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा दिलाऐगें ये 5 घरेलू उपचार

माइग्रेन एक प्रकार का सरदर्द है जो आपको तेज़ सर दर्द, और मतली का अनुभव करा सकता है। माइग्रेन सहित सिरदर्द आजकल बहुत आम...

Get in Touch

549,606FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

त्‍वचा और बालों की कई समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकते हैं पान के पत्‍ते, जानिए उपयोग करने के तरीके-

आज तक आपने पान के पत्‍तों का उपयोग सिर्फ खाने के लिए ही सुना होगा लेकिन हकीकत कुछ है।  पारंपरिक रूप से विभिन्न अवसरों...

क्यों जरूरी है सेक्स एजुकेशन ? यहां जाने सेक्स एजुकेशन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

भारत में लगभग हर घर में राजनीति, सिनेमा, पढ़ाई लिखाई और करियर के मुद्दों पर बात होती है लेकिन अगर घर में कोई बच्‍चा...

माइग्रेन के दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा दिलाऐगें ये 5 घरेलू उपचार

माइग्रेन एक प्रकार का सरदर्द है जो आपको तेज़ सर दर्द, और मतली का अनुभव करा सकता है। माइग्रेन सहित सिरदर्द आजकल बहुत आम...

ये 5 संकेत जो बताते हैं कि आप रोजाना खा रहे हैं अनहेल्दी खाना

अगर आप भी उन लोगों में हैं जो रोजाना शरीरिक स्‍वास्‍थ्‍य मुद्दों का सामने कर रहे हैं तो आपको अपने रोजाना खाए जाने वाले...

गर्म दूध के साथ गुड़ का सेवन आपकी इतनी सारी बीमारियों को कर सकता है जड़ से खत्म

दूध हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितना फायदेमंद है इस बात से तो हम सभी लोग भलिभांति परिचित हैं। लेकिन दूध के साथ गुड़ का...